कजलियां (भोजली)

सोमवार, अगस्त 03, 2020


गांव मे बरसात का मौसम कृषिकार्य से जुड़ा होता है। इसी मौसम मे आते है ढेर सारे त्योहार। हरियाली तीज, नागपंचमी, कजलीया(भोजली), पोला, जन्माष्टमी और गणेशोत्शव।  गांवो मे ये त्योहार इस तरह से रचे बसे है कि यदि गांव के किसी किसान से पुछो कि परहा(धान के रोपे लगाना)  हो गया तो उत्तर आयेगा कि भोजली तक या पोला तक समाप्त होगा।

गांव मे बरसात के मौसम मे कृषि कार्य के मध्य मे आने वाले त्योहारों मे से एक मुख्य त्योहार था कजलीया/भोजली। यह त्योहार राखी के दूसरे दिन मनाया जाता है। गांव मे राखी त्योहार केवल बच्चो और पुरोहितों के लिये था। आम लोगो का त्योहार तो कजलीया/भोजली ही था। इस त्योहार मे गेहुं को छोटी टोकरीयों मे बोया जाता है। अंधेरे मे गेंहुं के पौधे सूर्यप्रकाश की कमी से पीलापन लिये उगते है, इन्ही पौधो को कजलीयाँ कहा जाता है।

राखी के दूसरे दिन शाम को इन कजलीयों की टोकरी को हर घर के आंगन मे रखा जाता है। उनकी पूजा होती है। उसके पश्चात गांव के किसी एक छोर से गांव की भजनमंडली शोभायात्रा शुरु करती। भजनमंडली हर घर के सामने खड़ी होती, उस घर की महिलायें अपने सर पर कजलीयाँ रखे जुलुस मे शामिल होते जाती। सारे गांव से कजलीयों को जमा करने के बाद यह यात्रा गांव के छोर पर तालाब के पास रुकती। 

इस जुलुस मे सारे गांव वाले अच्छे कपड़े पहन कर होते थे। बच्चे रंग बिरंगी राखी बांधे हुये मिलते थे। कुछ बच्चे और युवा उंची उंची गेड़ी(पावड़ी) पर सवार होकर साथ रहते थे।

गांव के छोर पर तालाब था, पूजा के बाद महिलाये टोकरी धोकर उससे कजलीयों को निकाल कर ले आती थी। अब इन कजलीयों को एक दूसरे को बांटा जाता था। हम उम्र एक दूसरे को कजलीयों को देकर गले मिलते है, बड़ो के चरणस्पर्श करते है। 


यह त्योहार यहीं पर समाप्त नही होता था, इसके बाद सब का एक दूसरे के घर जाना शुरु होता था। एक दूसरे के घर जाकर कजलीयों का आदानप्रदान, गले मिलना, चरणस्पर्श जारी रहता था।


बाद मे देखा कि शहरी जीवन मे राखी का त्योहार प्रमुख होता है लेकिन ग्रामीण जीवन के परिप्रेक्ष्य मे कजलीया ही प्रमुख था।

मेरे बारे मे

Ashish Shrivastava
सूचना प्रौद्योगिकी मे 20 वर्षो से कार्यरत। विज्ञान पर शौकीया लेखन : विज्ञान आधारित ब्लाग विज्ञान विश्व तथा खगोल शास्त्र को समर्पित अंतरिक्ष । एक संशयवादी(Skeptic)व्यक्तित्व!
मेरा पूरा प्रोफ़ाइल देखें

इस चिठ्ठे के बारे मे

बस युं ही जो मन मे आये इस चिठ्ठे मे छपेगा!

  © Hindigram Khalipili by Hindigram 2011

Back to TOP