मेरी पीढ़ी जो नही कर पायी, मेरी अगली पीढ़ी कर रही है....

सोमवार, सितंबर 03, 2018

2 सितंबर 2015, सोमवार शाम मै वापिस बैंगलोर आने के लिये सपरिवार नागपुर एअरपोर्ट पहुंचा। एअरपोर्ट के अंदर आने पर पीछे से आवाज आई "आशीष भैया!"
पीछे मुडकर देखा एक बीस बाईस साल का युवक चला आ रहा है। पास आने पर उसने कहा "पहचाना ? मै ....."! थोड़ा समय लगा उसे पहचानने मे, आखीर मै उसे 17 वर्ष बाद देख रहा था। आखीरी बार जब मैने उसे देखा था तब वो और उसके मित्र गांव की गलियो मे कंचे, गुल्ली डंडा खेलते थे और नहर मे नंग धड़ंग नहाते थे।
उसे एअरपोर्ट पर देखकर एक सुखद आश्चर्य हुआ। मै उसकी पृष्ठभूमी से परिचित था। उसके दोनो चाचा मेरे सहपाठी रह चुके थे, मै आगे बढ़ता गया था और वे एक कक्षा मे एक साल, दो साल करते जैसे तैसे हाई स्कूल पहुंचने के बाद पढ़ाई छोड़ कर खेती-किसानी और मजदूरी मे लग गये थे। उसके पिता भी कृषि मजदूर ही थे।
मै पिछले सप्ताह ही गांव गया था। गांव मे सड़क पक्की हो गयी थी, जहाँ तहाँ डिश एंटीना भी दिख रहे थे, लोगो के हाथ मे मोबाईल भी दिख रहे थे। लेकिन यह सारी प्रगति एक छलावा सी लग रही थी, क्योंकि गांव का चौक जहाँ पर बसे रूकती थी अब वीरान हो चुका था। जिस जगह पर देर शाम तक रौनक रहती थी, कई दुकानें थी, अब उजाड़ था। गांव के अंदर भी लोगो को घरो के बुरे हाल थे। मेरे अधिकतर सहपाठी जिन्होने आगे पढ़ाई की थी वे अच्छी जिंदगी की तलाश मे गांव छोड़ चुके थे, और जो आगे नही पढ़ पाये थे वो तो हमारे कालेज के ही दिनो मे गांव छोड़ कर रोजगार की तलाश मे निकल लिये थे। केवल एक ही मित्र मिला था जो दर्जी का काम कर रहा था, मुझसे केवल दो तीन वर्ष बड़ा था लेकिन पचास से उपर का लग रहा था।
अपने इस गांव के ऐसे हालात देखे थे कि संपन्न परिवारों के लड़के ही पढ़ लिख कर आगे बढ़ रहे थे, बाकी केवल मजदूर ही बन रहे थे, चाहे कृषि मज़दूर हो या कारखाना मजदूर। ऐसे मे एक आर्थिक/शैक्षणिक दोनो तरह से पिछड़े परिवार की नयी पीढ़ी का एक नवयुवक हवाई यात्रा कर रहा है, मेरे लिये सुखद आश्चर्य से कम नही था।
मेरी दसंवी कक्षा (सन 1991) मे कुल 152 साथी थे। उसमे से केवल पांच ही आगे बढ़ पाये। दो इंजीनियर(मुझे लेकर) क्योंकि दोनो के पिता शिक्षक थे, तीन शिक्षक, जिसमे से दो के पिता धनी किसान थे और तिसरे के पिता मजदूर थे। इसमे से मजदूर पिता का पुत्र मेहनती था और एक डाक्टर के घर पर काम करता था तो उसे वातावरण अच्छा मिला, पढ़ाई के लिए अपना खर्च निकाल लेता था, जिससे उसे समस्या नही आयी। लेकिन बाकी 147 (40 लड़कीयाँ समेत) वहीं के वहीं रह गये। इनमे से सात-आठ परिवार के पास इतनी भूमि थी कि वे तरीके से कृषि कर पायें, बाकी केवल मजदूर बन कर रह गये। 

आज जब मै अपने सहपाठीयों से मिलता हुं तो वे आंख मिलाकर बात नही कर पाते है, मुझे साहब कह कर बुलाते है और मै शर्म से गड़ जाता हुं। ऐसे वातावरण मे मुझसे अगली पीढ़ी हवाई यात्रा कर पा रही है एक आशा जगा रही थी। मेरी पीढ़ी जो नही कर पायी, मेरी अगली पीढ़ी कर रही है....

आगे पढे़....

स्पाईवेयर गाथा : हमारा ज्योतिष साफ़्टवेयर

मंगलवार, जुलाई 24, 2018

2001-2002 हम गुड़गांव मे एक कंपनी मे काम करते थे। छोटी कंपनी थी, करीब 400 लोग। साफ़्टवेयर कंपनी और वह समय साफ़्टवेयर सेवा कंपनीओ के लिये सुनहरा समय था। औसत आयु लगभग 22-25 वर्ष।

कंपनी मे माहौल किसी कालेज के जैसे ही होता था। काम के साथ मौज मस्ती खूब चलती थी। महाराष्ट्र से होने के बावजूद भी मेरी एक अच्छी खासी मित्र मंडली बन गई थी, जिसमे कुछ लड़कीयाँ भी थी।

हमारी छवि उन दिनो मे भी एक टेकी, नर्डी बंदे की थी। हमारे क्षेत्र मे कोई भी समस्या का तुरंत हल रहता था हमारे पास, जिससे सारी कंपनी मे सभी मुझे अच्छे से जानते थे, हर किसी से मित्रवत संबध थे।

एक दिन कपिल महाशय आये, बोले "यार तेरे से एक काम है ? बोल करेगा क्या ?"

कपिल महाशय दिलफ़ेंक इंसान थे, कन्याओं के आगे पीछे घूमते रहते थे। लेकिन मुझे लगा कि मेरे पास आया है तो किसी टेकी समस्या के लिये ही आया होगा। हमने बोला, काम बताओ, हमारे बस का होगा तो कर देंगे।

कपिल : "मुझे सुनयना की जन्म तारीख पता करनी है ?" (*नाम बदल दिया है।)
हम : "यार इसमे मै क्या करुंगा ? तु सीधे जाकर उससे पुछ ले ना!"
कपिल : "नही यार , बड़ी अकडु लड़की है! नही बतायेगी। एच आर को बता दिया तो मेरी लग जायेगी!"
हम :"अबे तो मेरी क्यों वाट लगा रहा है ?"
कपिल : " यार तु उससे पुछेगा तो बता देगी, तेरी उससे अच्छे से बनती है!"
हम :"अबे तो जन्मतारीख कैसे पुछुंगा ? उसको क्या लगेगा ?"
कपिल :"कुछ कर यार!"
हम : "ठीक है, कुछ सोचते है!"

मुझे अपना एक पुराना ज्योतिष साफ़्टवेयर याद आया। ये साफ़्टवेयर जन्मकुंडली बनाता था। नाम, जन्मतिथि समय, लिंग, जन्मस्थान की जानकारी देने पर कुंडली बना देता था। साथ मे भविष्य भी बताता था। जन्मकुंडली तो सही बनाता था लेकिन भविष्यवाणी मे कुछ भी रैंडम बना कर दिखा देता था।

उसकी भविष्यवाणी मे सब कुछ मीठा मीठा ही होता था, जैसे -  " आप बहुत मेहनती है, लेकिन मेहनत का पूरा फ़ल नही मिलता है। आप सब पर विश्वास करते है लेकिन लोग आपके विश्वास का गलत फ़ायदा उठाते है। आप का वर्तमान समय कठिन है लेकिन अगले एक-दो वर्षो मे सुनहरा समय आपका इंतजार कर रहा है!"

इस साफ़्टवेयर का सोर्स कोड खोज निकाला। उसमे कुछ बदलाव किये जैसे कि प्रेमसंबधो और वैवाहिक जीवन की भविष्यवाणी। ये भी सब मनबहलाव वाला था, मतलब कि कुछ भी बना कर दिखा दो, बस ध्यान रखो की सब कुछ मीठा मीठा ही हो। लेकिन इस भविष्यवाणी के लिये उपयोगकर्ता को अपने प्रेमी/प्रेमिका/पति/पत्नि का नाम भी देना होगा।

दूसरा बदलाव यह किया कि उपयोग कर्ता की सारी जानकारी वह मेरे कंप्युटर पर भेज देगा। उपयोगकर्ता को केवल जन्मकुंडली और भविष्यवाणी दिखेगी, उसे पता भी नही चलेगा कि पीठ पीछे उसकी सारी जानकारी मेरे पास पहुंच चुकी है।

नये साफ़्टवेयर को अच्छी तरह से टेस्ट किया। सब कुछ ठीक ठाक लगा तो उस साफ़्टवेयर को उस लड़की के साथ कुछ और मित्रो को भेज दिया। साफ़्टवेयर भेजने के पंद्रह मिनट मे ही उस लड़की का सारा कच्चा चिठ्ठा मेरे पास था।

लेकिन जनता रूकी नही, उन लोगो ने साफ़्टवेयर अपने मित्रो के पास भेजा। शाम तक यह हाल था कि मेरे पास कंपनी की 90% लड़कीयों का बायोडाटा था और 50% लड़को का। लड़के पता नही केवल इसे अग्रेषित कर रहे थे, प्रयोग नही कर रहे थे। जबकि लड़कीया प्रयोग कर रही थी लेकिन आगे नही भेज रही थी।

शाम को कपिल आया! पूछा काम हो गया! हमने कहा हो गया लेकिन पहले पार्टी! पित्जा मंगवाया गया, भोग लगाया गया। उसके बाद हमने डाटाबेस खोला। उस कन्या की जन्मतिथि देखी कपिल को बताई। अचानक मेरी नजर प्रेमी/प्रेमिका/पति/पत्नि पर पड़ी, वह कालम खाली नही था और उसमे कपिल का नाम होने की कोई संभावना तो थी ही नही।

उस कालम को कपिल से बचाने की कोशिश की लेकिन उसकी भी नजर पड़ गई। भाई साहब का मूड आफ़ हो गया।

बोले :"आशीष! ये काम तुने अच्छा नही किया!"

हम :" अबे इसमे मै क्या कर सकता हुं। मैने थोड़े ही डाटा डाला है!"

कपिल महाशय का 400 रूपये का चूना लग गया था, भूनभूनाते हुये पैर पटकते हुये चले गये।

दस कदम गया होगा कपिल वापिस आया। बोला "यार ये डाटाबेस मुझे दे दे ?"

हम :" अबे तु इसका क्या करेगा ?"

कपिल :"अबे इसमे सारी सिंगल लड़कीयो की जानकारी भी है, वो गई तो क्या हुआ बाकी की जानकारी काम आयेगी!"

हम :"आंय़!"

आगे पढे़....

2012 : अवसाद का वह भयावह अनुभव

सोमवार, जुलाई 16, 2018

कल एक मित्र से अवसाद पर चर्चा हुई और मुझे अपना अवसाद वाला एपिसोड याद आ गया।

अप्रैल/मई 2012 हम लोग उस समय सिडनी आस्ट्रेलिया मे थे।

मेरा प्रोजेक्ट समाप्त हो गया था, पोस्ट प्रोडक्शन सपोर्ट का काम था, वह भी बैंक का तो कभी भी फोन आ जाते थे। कुल मिलाकर 24x7 अलर्ट रहना होता था। कुल मिलाकर तनाव वाला काम था।

उन्ही दिनो मुझे अचानक गैस, एसीडीटी संबंधित समस्या होने लगी। जैसे ही पेट खाली होता अचानक पेट फूलने लगता, खट्टी डकारे , बैचेनी होती थी। कुछ खाने या एंटासीड लेने पर राहत मिलती थी। यह सिलसिला एक महीने तक चला। डाक्टर से मिला, डाक्टर ने कुछ जांच की और एक दवाई दी। उससे राहत मिली, लेकिन तात्कालिक। इस राहत से डाक्टर को शक हुआ कि मेरे पेट मे कुछ बैक्टेरीया है जो गैस बना रहे है, जिसके लिये एंटीबायोटिक का कोर्स लेना होगा। लेकिन इस कोर्स को प्रारंभ करने से पहले  उन्हे खाली पेट सांस की जांच करनी थी जिससे यह संक्रमण तय हो जाये। दूसरी समस्या यह थी कि मैने जो दवाई ली थी, उसके असर के पूरी तरह समाप्त होने तक यह जांच नही की जा सकती थी, जिसके लिये 30 दिन लगते। डाक्टर ने सीधे कह दिया कि तब तक एंटासीड से काम चलाओ। एंटीबायोटिक पूरी तरह से संक्रमण तय होने के बाद ही दिये जायेंगे।

इतने मे मेरे भारत आने का कार्यक्रम बना। भारत मे एक गैस्ट्रोएंटरोलॉजीस्ट से मिला। उन्होने लक्षणो के आधार पर ही एंटीबायोटिक कोर्स प्रारंभ कर दिया। साथ मे उन्होने एक और दवाई लिओसल्प्राईड भी दे दी। कहा कि पूरा कोर्स होने के बाद दवाईयाँ बंद कर देना। हम खुश।

कुछ दिनो बाद वापिस सिडनी पहुंचे। कोर्स पूरा होने के बाद दवाई बंद कर दी। जिस दिन से दवाई बंद की दूसरे दिन से नींद गायब, मन उदास। एक दिन निकला , दूसरा दिन निकला, समस्या वही! सारी रात जागता था, नींद आने का नाम नही। धीरे धीरे समस्या बढ़ने लगी, अचानक गर्मी लगती थी, घबराहट होती थी, दिल की धड़कन तेज हो जाती थी। मन एकदम उदास रहता था, किसी भी बात मे मन नही लगता था। समझ मे आने लगा था कि यह अवसाद (डीप्रेशन/एंजायटी) के लक्षण है लेकिन सोचा कि कुछ दिनो मे ठीक हो जाउँगा। दो सप्ताह बीत गये हालत और खराब हो गये, ऑफ़िस जा रहा था लेकिन उदास मन से काम भी कर रहा था लेकिन हर बात से डरने लगा था। फ़ोन की घंटी से, इमेल से जैसे इनसे कोई बुरी खबर आ रही हो।

निवेदिता मुझे पैरामेटा के अस्पताल की इमरजेंसी मे लेकर गई। ढेर सारी जांच हुई, सीटी स्कैन हुआ। सारी रिपोर्ट सामान्य। डाक्टर हैरान कि समस्या क्या है। अचानक मेरे मन मे आया कि इन्हे भारत का प्रिस्क्रिप्शन दिखाया जाये। डाक्टरो ने जैसे ही प्रिस्क्रिप्सन देखा, दूसरे डाक्टरो को बुलाया। नये डाक्टर ने कुछ सामान्य प्रश्न पुछे। नया डाक्टर भारतीय ही था। उसके बाद अचानक पूछा कि तुम्हें कोई आत्मा दिखती है, देवी आती है  जो तुम्हें आदेश देती है, बातें करती है ?

मैने कहा नही तो ? आप यह प्रश्न क्यों पुछ रहे है ?

पता चला कि नये डाक्टर मनोचिकित्सक (साइकियाट्रीस्ट) थे। उन्होने कहा कि तुम्हें भारत मे लिओसल्प्राईड क्यों दी थी ?

मैने कहा एसीडीटी/गैस के कारण!

डाक्टर :  तुम्हे डाक्टर ने इसे बंद कैसे करना है बताया था ?

हम : नही! आप ये क्यों पुछ रहे है ?

डाक्टर : लिओसल्प्राईड स्क्रिजोफ़ेनिआ के मरीज़ो को भी देते है। यह मानसिक रोगों के लिये प्रयुक्त होने वाली दवा है। तुम्हें इस दवा के अचानक बंद करने से उसने डिप्रेसन/एंजायटी को ट्रिगर कर दिया है।

इस मनोचिकित्सक ने अपने सिनियर को फोन किया, वे उस समय उपलब्ध नही थे। ऐसे भी रात के बारह बज गये थे। डाक्टर ने कहा कि आपको कम से कम एक दिन भरती रहना होगा। कल एक डॉक्टरों की एक टीम आपसे चर्चा करेगी उसके बाद आगे का इलाज तय होगा।

इस अस्पताल मे भर्ती थे हम
हम बोले ठीक है। उन्होने मेरे उस अस्पताल से दूसरे अस्पताल मे भेजने की तैयारी शुरु कर दी। जिंदगी मे पहली बार एंबुलेंस की सवारी की। जब दूसरे अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि वह मनोचिकित्सालय था। एडमीशन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद उन्होने निवेदिता को वापिस भेज दिया और दूसरे दिन आने कहा।

उन्होने मुझे अंदर वार्ड मे भेजा, अंदर जाते साथ एक महिला को देखा, वह टहल रही थी, मुझे देखते साथ बोली "एक और आ गया..."

मनोचिकित्सालय का अनुभव बहुत बुरा होता है। इसमे हर कमरे मे सीसीटीवी होते है, ताले मुख्य नियंत्रण कक्ष से खुलते और बंद होते है। अब तक मै सामान्य था, लग रहा था कि अस्पताल मे हुं ठीक हो जाउंगा। लेकिन मनोचिकित्सालय के पहले दो घंटो के अनुभव ने डरा दिया। तय कर लिया कि कल डाक्टरो से बात कर इस अस्पताल से तो निकलना ही है।

नर्स आई, उसने मुझे नींद की दवाई दी। जीवन मे पहली बार नींद की दवाई ली, दो सप्ताह बाद नींद के आगोश मे पहुंचा। चार पांच घंटे ही सोया था कि सबको जगा दिया गया। नहाने का आदेश हुआ, नाश्ता मिला। पता चला कि अब पूरा दिन बाहर बिताना है, वार्ड का दरवाजा बंद हो गया है। इन सबमे दस बज गये।

दस बजे मुझे एक कमरे मे बुलाया गया। दो डाक्टर थे। सारा इतिहास पूछा गया। इस बार प्रश्न कुछ इस तरह से थे कि वे जानना चाह रहे थे कि मुझ मे आत्महत्या वाले या हिंसक लक्षण तो नही दिख रहे। सब कुछ होने के बाद उन्होने बताया कि मुझे एंजायटी और डीप्रेशन है जिसके लिये तीन महीने एंटी डीप्रेशन की दवायें लेनी होगी और इस दौरान हर सप्ताह मनोचिकित्सक से मिलना होगा। साथ मे उन्होने यह भी कहा कि मेरा विटामीन डी स्तर कम है, और रक्त जांच मे हायपोथायराइड्ज्म के लक्षण दिख रहे है। ये दो कारक भी अवसाद के लिये जिम्मेदार हो सकते है।

उसके बाद उन्होने निवेदिता को बुलाया, उसका लंबा इंटरव्यू लिया। यह इंटरव्यू यह जानने था कि वह मेरी देखभाल कर पायेगी या नही। पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद उन्होने मुझे डीस्चार्ज कर दिया। दो सप्ताह के लिये नींद की दवायें दी गई, और साथ मे एंटीडीप्रेशन की दवाई। कहा कि नींद की दवाये एडीक्टीव होती है, उन्हे जितनी जल्दी हो सके बंद कर दो।  चाय/काफ़ी कम कर दो। अच्छी नींद के लिये "स्लीप हायजीन" का पालन करो। जीम जाओ, दौड़ लगाओ , इन गतिविधियों से अवसाद रोधी हार्मोन निकलते है।

घर आये, पहली रात नींद की गोली से चार पांच घंटे सो पाया। मानसीक दृढता इतनी थी कि दो गोली की बजाय एक ही गोली लेकर सोया था।

सुबह दस बजे घर की घंटी बजी, पता चला कि अस्पताल वालो ने मेरी जांच के लिये दो वालींटीयर भेजे थे। वो सब कुछ देखकर पूरी तरह संतुष्ट हो कर गये।

अगले कुछ दिन संघर्ष के थे, मन उचाट तो रहता था, नींद केवल दवाई से आती थी। लेकिन निवेदिता मुझे व्यस्त रखती थी। दोपहर मे माल ले जाते थी, शाम को पैरामैटा नदी के किनारे के पार्क मे। इस सबसे यह हुआ कि नींद की दवाई एक सप्ताह बाद ही बंद कर दी।

दूसरे सप्ताह से हालात सुधरे। सुबह के कुछ घंटे भारी होते थे लेकिन शाम को मन ठीक हो जाता था। दस दिन बाद ऑफ़िस जाना आरंभ कर दिया। डाक्टर से दोबारा मिला, वह मेरी प्रगति देख कर खुश हो गया था।

मेरा कोर्स तीन महीने का था लेकिन छः सप्ताह के बाद डाक्टर ने मेरी प्रगति को देखकर दवा आधी कर दी और आठ सप्ताह बाद बंद कर दी।

अवसाद का यह एपिसोड इतना भयावह था कि दवा के बंद होने के बाद मै दो साल तक गिनता था कि दवाई बंद किये आज एक सप्ताह हुआ, आज एक महिना हुआ, आज एक साल हुआ।

अवसाद के इस एपिसोड से मुझे पता चला कि इससे प्रभावित लोगो की हालत क्या होती है, वे चाहकर भी खुश नही हो पाते है। आनंद उत्पन्न करने वाले रसायन ही नही बनते है या कम बनते है। यह वह दौर होता है जब उन्हे बाह्य सहारे की आवश्यकता होती है। लेकिन भूलकर भी उन्हे भाषण ना पिलाये, लेक्चर ना दे, उन्हे भावनात्मक सहारा दे। यह वह दौर है जो उन्होने निमंत्रित नही किया है।

अवसाद(डिप्रेशन) ना तो फैशन है, ना ही नौटंकी। यह माना जाता है कि अवसाद हर व्यक्ति को जीवन मे कम से कम एक बार अवश्य घेरता है, अधिकतर मामलो मे व्यक्ति इससे कुछ समय मे स्वयं ही उबर जाता है लेकिन कुछ मामलो मे चिकित्सीय सहायता की आवश्यकता होती है।

मै कभी भी नही चाहुंगा कि अवसाद की छाया किसी पर भी पड़े, इसके परिणाम ना केवल उस व्यक्ति के लिये, साथ ही उसके निकट के लोगो के लिये भयावह हो सकते है। अवसाद कई वजहो से हो सकता है, किसी दुर्घटना से, किसी नीजी, व्यवसायिक हानि से, किसी निकट के व्यक्ति से दुराव से, किसी दवा के दुष्प्रभाव से।

अवसाद केवल असफ़ल प्रेम प्रसंगो से, महत्वाकांक्षा के पूरे ना होने से ही नही होता है, इसके पीछे कई अन्य कारण हो सकते है।

कुछ कारणो मे शामील है

  1.  विटामीन डी की कमी जो कि सूर्य प्रकाश ना मिलने से होती है और यह कमी सर्दी-बरसात के दिनो मे भी हो सकती है, आपको बिना किसी मानसिक कारण के अवसाद मे धकेल सकता है।
  2. हायपोथायराईड - थाईराइड हार्मोन के उचित मात्रा मे नही बनने से भी अवसाद आ सकता है। तंत्रिका तंत्र, हृदयरोग की कुछ दवाईयाँ भी अवसाद को आमंत्रित कर सकती है।


ऐसा भी नही है कि आधुनिक जीवन शैली, नाभिकिय परिवार , आत्मकेंद्रित जीवन ही अवसाद के लिये उत्तरदायी हो, भरे पूरे परिवार मे भी अवसाद से आत्महत्या होते रही है।

भारतीय समाज अवसाद को गंभीरता से नही लेता। वह मनोचिकित्सको को पागलो का डाक्टर मानता है।

अवसाद ग्रस्त व्यक्ति हताशा मे क़दम नही उठाता है, वह सब जानता है , समझता है। उसका मस्तिष्क किसी स्वस्थ व्यक्ति के जैसे ही सक्रिय होता है। कई मामलों मे जैसे किसी आपदा, दुर्घटना से निपटने मे अवसाद ग्रस्त व्यक्ति किसी अन्य व्यक्तियों से बेहतर होते है क्योंकि वे सबसे बुरी परिस्तिथि , बुरे परिणाम की कल्पना कर चूके होते है।

अवसाद ग्रस्त व्यक्तियों मे आनंद की अनुभूति , जीने की ललक उत्पन्न करने वाले हार्मोन कम बनते है। यह किसी दुर्घटना, स्वास्थ्य कारणों, मानसिक तनाव या किसी ड्रग, नशे के कारण भी हो सकता है। हार्मोनों के प्रभाव के कारण उसे किसी भी बात मे आनंद नही आता है, जीने की ललक समाप्त हो जाती है।

उन्हे भाषण की नही चिकित्सक , परिवार के सहारे की आवश्यकता होती है। जब भी आप अपने आसपास के किसी व्यक्ति के व्यवहार मे अचानक परिवर्तन देखे, वह अकेला रहना पसंद करने लगे, शांत रहने लगे, चिड़चिड़ा हो जाये तो उसपर ध्यान दे। हो सकता है कि वह आपके इस सहानुभूति वाले व्यवहार से भी चिढ़ जाये , लेकिन आपको ही , परिवार को ही उसे सम्हालना है। उसे भाषण ना दे, बस कारण जानने का प्रयास करे, मनोचिकित्सक की सहायता ले।

इसके बाद भी आप इसे फैशन या नौटंकी मानते है तो अवसाद ग्रस्त व्यक्ति को मानसिक चिकित्सा की आवश्यकता हो या नही, आपको अवश्य है।

आगे पढे़....

रिवर्स इंजीनियरींग

बुधवार, जुलाई 04, 2018

1993: कालेज मे इंजीनियरींग का प्रथम वर्ष। भौतिकी प्रयोगशाला, प्रयोग कांच का रिफ़्रेक्टीव इंडेक्स ज्ञात करना। एक टीम मे चार लोग थे। हम लीडर..
परिणाम पहले से ज्ञात था, उत्तर 1.5 आना चाहिये था। टीम के बाकी लोगो को कहा कि तुम लोग शुरु हो जाओ, हम रीडींग(निरिक्षण) तैयार करते है। रिफ़्रेक्ट्रीव इंडेक्स गणना के सुत्र से उल्टा चलते हुये रीडींग के तीन सेट तैयार कर लिये।
उपकरणो से थोड़ी देर खेल कुद छेडछाड़ की, प्रेक्टीकल जरनल अपडेट किया और प्रफ़ेसर के पास पहुंच गये। प्रफ़ेसर ने रीडींग देखी , परिणाम देखा उसके बाद हम लोगो को देखा। मुसकराये बोले 
"बच्चो तुम जैसे सैकड़ो हर साल मेरे पास आते है। मै भी पूरे ध्यान से, पूरी सतर्कता से प्रयोग करुंगा ना, तो परिणाम इतने सटिक नही आयेंगे। ये रिवर्स इंजीनियरींग भविष्य मे करना, यहाँ पूरे ध्यान से प्रयोग करो।"
हम फ़ंस गये। प्रफ़ेसर ने कहा, चलो हम तुम्हारे साथ आते है। प्रफ़ेसर ने हमारे साथ पूरे फ़ंडे समझाते हुये विधिविधान से प्रयोग कराया। रीडींग के तीन सेट लिये। फ़ार्मूले मे रीडींग डाली, गणना की उत्तर आया : 1.420
1 घंटे का प्रयोग होशियारी दिखाने के चक्कर मे तीन घंटो का हो गया था। प्रफ़ेसर को परिणाम दिखाया। वो फ़िर से मुस्कराये और कहा, बढीया। इस परिणाम मे दशमलव के बाद वाली संख्या तुम लोगो के लिये ही है।
लेकिन हम सुधरे तो नही, लेकिन सावधानी बरतनी शुरु कर दी, अब हम सटीक परिणाम नही लाते थे, उसके आसपास ही लाते थे!

आगे पढे़....

संशयवादी (skeptic) होने की संक्षिप्त यात्रा

मैं संशयवादी (skeptic) हुँ, किसी भी बात पर विश्वास करने से पहले ठोक बजा लेने की आदत बचपन से बनी है।
इन सब से होता यह है कि किसी भी अफवाह की चपेट में आसानी से नही आता।
2002 के आसपास एक मित्र अपोलो 11 के द्वारा चन्द्रमा पर अवतरण को झूठ बताते हुए कुछ लिंक दी, साथ ही में फॉक्स टीवी के एक वृत्तचित्र(डॉक्यूमेंट्री) की लिंक। देखा थोड़ा चकराया, विश्वास हिला। उसके बाद इंटरनेट पर खोजना आरम्भ किया। खोज के शब्द थे Moon Landing Hoax, जितने भी लिंक मिले सारे चन्द्रमा पर अवतरण को गलत बात रहे थे। लेकिन अचानक फिल प्लेट(Phil Plait) की वेबसाइट http://www.badastronomy.com/index.html मिल गई औऱ 30 मिनट में आंखे खुल गई। थोड़ी शर्म भी आई कि विज्ञान का विद्यार्थी होने के बावजूद कैसे इन खोखले अवैज्ञानिक तर्कों की चपेट में आ गया।
उसी दौरान माइकल शेरमर को पढ़ना आरम्भ किया। कुछ अन्य संशयवादी जैसे जेम्स रैंडी को पढ़ा। धीरे धीरे अफवाहों, छद्म विज्ञान को पहचानना आ गया।

मेरे कुछ तरीके है जैसे मैं किसी भी अप्रत्याशित खबर के बारे में अधिक जानने निगेटिव खोज करता हूं। जैसे खोज में debunk, hoax जैसे शब्द जोड़ देता हूं। इससे यह होता है कि प्रश्नवाचक,विरोधी विचार पहले सामने आते है। यकीन मानिए विपरीत विचार वालो को विषय पर समर्थकों से अधिक जानकारी युक्त ही पाया है।
जब CERN में न्यूट्रिनो के प्रकाशगति से तेज चलने वाली खबर आई थी, तब भी यही किया था। उस समय भी फील प्लेट के ब्लॉग में उन्होंने कहा था कि प्रयोग में गलती हो सकती है, हमे तीसरे पक्ष द्वारा पुष्टि का इंतजार करना चाहिए। अंत मे वही पाया गया कि प्रयोग में गलती थी।
यही तरीका 2012, प्लेनेट X, निबिरु, नेमसिस के लिए अपनाया। प्लेनेट नाइन के समर्थन मे गणितीय मॉडल है लेकिन प्रमाण नही है, इसलिए प्रमाणों के सामने आते तक मेरे लिए वह नही है।
एड्स के हॉक्स होने, रोगों के चमात्कारिक इलाज के दावे, इल्युमिनाटी, यहूदी कांस्पिरेसी जैसे विषयो पर भी यही कसौटी रहती है, समर्थक की बजाय निंदक खोजो। सही खबर की ओर संकेत वही देगा, जांचने परखने के बाद विश्वास केवल प्रामाणिक तथ्यों पर।
व्हाट्स एप्प, फेसबुकिया ज्ञान , वर्तमान मीडिया की खबरों पर भी उल्टी गंगा बहाते है। दक्षिणपंथी समाचार के बारे में विस्तार से जानने वामपंथ की ओर देखते है, वामपंथी की पोल जानने दक्षिणपंथी को। लेकिन मानते उसी को है जिसके पक्ष में पुख्ता प्रमाण हो।
कभी किसी भी समाचार पर त्वरित विश्वास नही करते, प्रतिक्रिया नही देते। धुंध छंटने दो, असलियत बाहर आ ही जाएगी।
बस आज का ज्ञान इतना ही...

आगे पढे़....

कंठलंगोट गाथा

सोमवार, जून 11, 2018

काजल जी ने गांव मे टाई बांधने वाले की धमक के बारे मे पोस्ट डाली है, हम भी अपना ताजा ताजा किस्सा बताते है। पिछले महिने ही कंपनी ने अमरीका के बिजनेस विजा के लिये चेन्नई भेजा। उन्होने धमका के रखा था कि बिजनेस विजा है, 20 साल से काम कर रहे हो शरीफ़ो के जैसे सूट पैंट टाई लगा कर जाना, आफ़िस नही है, जैसे बने वैसे चले आये..!

2013 मे आस्ट्रेलिया से लौटने के बाद टाई नही बांधी थी। फ़ोटो मे तो फोटोग्राफ़र फ़ोटो खींचने के बाद फोटो को टाई, कोट पहना कर बाल भी बना देता था। लेकिन यहाँ तो काउंसलेट आफ़िसर के सामने इंप्रेशन मारना था।

खैर कोट पैंट टाई लेकर चेन्नई पहुंचे। काउंसलेट जाने से पहले नहाया धोया, परफ़्युम छिड़का, ढंग से बाल बनाये।इस्त्री कर कपड़े पहिने। अब टाई बांधना शुरु किया। बोलो राम हो गया.. टाई बांधना भूल गये....

समझ मे नही आया गड़बड़ क्या हो रही है... ब्रिटीश चौड़ी टाई को फ़ेंका, अमरीकन दूबली पतली टाई उठाई.. लेकिन किस्सा वही टाई नही बंध रही।

युट्युब उठाया कि टाई कैसे बांधी जाती है... दो तीन विडीयो देखे , फ़िर कोशीश की ... मुहुर्त खराब था... नही बंधना थी.. नही बंधी...

हमने बोला कि भाड़ मे जाये टाई, विजा रिजेक्ट हो जाये अपनी बला से, बास ऐसे भी जबरन भेज रहा है... बस सूट पहना और चल दिये..

किस्मत खराब थी, काउंसलेट आफ़िसर बिना टाई के ऐसे ही इम्प्रेस हो गई और विजा थमा दिया....

वापस होटल आये, सोचा कि चलो एक बार और प्रयास करते है... अब पहली बार मे ही तरिके से टाई बंध गई....

मेरी अभी तक समझ मे नही आया कि पहले मै गड़बड़ क्या कर रहा था!

आगे पढे़....

मिलना एक जीगरी मित्र से पंद्रह वर्ष बाद

17 बरस! प्रवीण से पिछली बार उसकी शादी में 2002 में मिला था। उसके बाद मे कई बार अमरीका आया, प्रवीण भारत आया लेकिन हम लोग किसी ना किसी वजह से मिल नही पाए। इस बार मेरी योजना दो सप्ताह रिचमंड वर्जीनिया, दो सप्ताह प्लानों टेक्सास की थी।

लेकिन मुझे प्लानों में जिससे मिलना था वह कम्पनी छोड़ गया। मेरी पूरी योजना खटाई में।

लेकिन बाद में सोचा कि एक सप्ताह अपनी टीम से ही मिल लेता हूँ। टिकट बुक कराई औऱ पहुंच गए टेक्सास।

प्रवीण पहले दिन खाना लेकर आया जिसको हमने तीन दिन तक खाया। शुक्रवार को प्रवीण ने ऑफिस से उठा लिया और घर पहुंचगे। भाभी, दोनो बच्चो कबीर और वेदिका से मिला।

तीन सप्ताह बाद अदरक वाली चाय पी। शुद्ध देशी घर का खाना खा कर आत्मा तृप्त हो गई।

उसके बाद गप्पे शुरू हुई, ठाकुर को न्यूजीलैण्ड फोन कर मातादीन की याद दिलाई गई, राजेश को लन्दन सुबह तीन बजे घंटी बजाई, उठाया नही।

सब मित्र मंडली 40 पार है, एक जमाने मे सब मूंछे रखते थे, अब केवल मेरी मूंछे बची है। पंडित के सर पर उतने ही बाल है जितने 17 साल पहले थे।

पुरानी यादें टटोली गई, भाभी ने पंडित की भंडारा वाले किस्सो के बारे में पूछा , हम बता नही पाए, किसी का नाम ही याद नही आया :(

सुबह जोर का झटका लगा जब पता चला कि पंडित शादी के बाद खाना बनाना सीख गया है, भाभी ने इडली और पंडित ने सांभर और चटनी बनाई।

जाते समय भाभी ने चाय के लिए पूछा और हम मना नही कर पाए, इस चाय के चक्कर मे रिचमंड की फ़्लाइट छूटते बची।

पंडित ने भंडारा वरठी में स्कूटर चलाने के अंदाज में कार चलाई और जब देख लिया कि बंदा सुरक्षा जांच पूरी कर चुका है, वापिस आने का खतरा नही है तभी वापस गया।

पंडित, मानेगा या नही लेकिन फ्लाइट में तुझे sms भेजते समय आंखे नम थी।

आगे पढे़....

जुग (युग) सहस्त्र जोजन (योजन) पर भानु. लील्यो ताहि मधुर फल जानू..

श्रीवास्तव जी, इनबॉक्स में प्रकट हुए , कहने लगे कि तुम कायस्थ हो, पढ़े लिखे हो, अपने धर्म और पूर्वजो के ज्ञान का मजाक उड़ाते हो। चित्रगुप्त वंशजो को शोभा नही देता। पश्चिम में जो भी खोज हो रही है हमारे ग्रंथो में पहले से मौजूद है।

हम उनके आशय को समझ गए और उनका शिकार उन्ही के हथियार से करने की सोची।

हम बोले: आप भी कायस्थ है, घर मे किताबे तो होंगी ही।

वे : बहुत सी है..

हम : वेद तो आपने पढ़े ही होंगे..

वे: ....

हम : अच्छा वेदों का भाष्य, अनुवाद पढ़ा ही होगा।

वे: ....

हम : छोड़िए वेदों को, उपनिषद, पुराण तो अवश्य ही पढ़े होंगे।

वे : ....

हम: अच्छा रामायण, महाभारत

वे: हम महाभारत घर मे नही रखते, रामायण घर पर है।

हम: संस्कृत में या हिंदी अनुवाद ?

वे: तुलसी दास वाली।

हम: महाराज वो रामचरित मानस है। चलो जाने दो उसमे विज्ञान बता दो।

वे: तुलसीदास ने सूर्य की दूरी बताई है।

हम : महाराज व्हाट्सएप ज्ञान मत पेलो। सबसे पहले वह तथाकथित विज्ञान मानस में नही हनुमान चालीसा में है।

हमने पूछा : आप इसकी बात कह रहे है ना
जुग (युग) सहस्त्र जोजन (योजन) पर भानु. लील्यो ताहि मधुर फल जानू..

वे : जी हां ऐसा ही कुछ है..

हम : अच्छा यह बताइये कि व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी वाले इसमे

एक युग = 12000 वर्ष
एक सहस्त्र = 1000
एक योजन = 8 मील बताते है।
एक योजन याने 8 मील कैसे तय हुआ ?

युग समय की इकाई है, मील दूरी की इकाई, तो किस वैज्ञानिक हिसाब से इन दोनों को गुणा किया गया ?

वे : ...

हम : मालिक आपने भी इंजीनियरिंग की है। रिवर्स इंजीनियरिंग भी जानते होंगे ?

वे : मतलब ?

हम : प्रयोगों मे निरीक्षण से परिणाम की बजाय उल्टे परिणाम से निरीक्षण लिखने की कला। ये बताओ कि कालेज प्रयोगों में g का मान हमेशा 9.8 m/s2 या कांच का रेफ्रेक्टीव इंडेक्स 1.5 कैसे लाते थे?

वे अंतर्ध्यान हो गए, अब शायद ब्लॉक ही कर देंगे ...

आगे पढे़....

बचपन और विचारधारा का विकास

1986-87 का समय होगा, रिलायंस क्रिकेट विश्वकप के आसपास का समय। हम कक्षा 6 में थे। स्कूल से वापिस आने के बाद अंधेरा होते तक झालिया गांव में चौक के पास खेलते थे।
चौक पर एक बड़ा बरगद का पेड़ है, वही बसे रुकती है, कुछ चायपान की दुकान, साइकल मरम्मत केंद्र थे।
खेलो में वालीबॉल, कबड्डी प्रमुख होते थे, लेकिन अब विश्वकप बुखार की चपेट में आकर क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। अंधेरा होने के बाद सारी मंडली बतियाते हुए तालाब या पास की नहर तक जाते थे, वहां मित्र मंडली नहाने , शौच जैसे काम निपटाती थी। वापस आने के बाद सब अपने अपने घर।
गांव में एक पटले गुरुजी थे, जो आमगांव में संघ से जुड़े स्कूल में अध्यापक थे। उन्हें शायद निर्देश था कि गांव मे शाखा लगाई जाए। उनकी बहुत दिनों से हमारी मंडली पर नजर थी, क्योंकि गांव में कोई और उन्हें गंभीरता से लेता नही था।
एक दिन हम क्रिकेट खेल रहे थे, पटले गुरुजी ने क्रिकेट की जमकर बुराई की। जैसे ये बच्चो का खेल नही है, बॉलर के कंधे खराब होते है, बैट्समैन की कमर वगैरह बगैरह। बाल मन डर गया, पुछा कि क्या करे। उनको मौका मिल गया, कहा कि देशी खेल खेलना चाहिए, वैचारिक विकास के लिए बौद्धिक चर्चा करना चाहिए वगैरह। कल इसी समय आओ, मैं सब सीखाता हूँ।
दूसरे दिन सब जमा हुए। गुरुजी ध्वज लेकर आये थे, साथ में एक पूर्णकालिक सेवक को भी लाये थे। पूरे विधि विधान से शाखा लगी। कुछ खेल खेले गए, बौद्धिक(?) चर्चा के अंतर्गत कथाकथान हुआ, जिसकी प्रस्तावना आतातायी, आक्रमणकारीयो के अत्याचारों से रखी गई। पुरे गांव में आक्रमणकारी समाज से संबधित दो शिक्षिकाये थी, जो स्कूल मे सरस्वती पूजा, व्यास पूजा भी कराती थी, तो मित्र मंडली में किसी को हजम नही हुई। मित्र मंडली क्रिकेट ना खेले जाने से भुनभुना रही थी अलग से।
अगले दिन शाम को पटले गुरुजी , और वाघाये(पूर्णकालिक) महोदय फिर से आ गए। क्रिकेट की बलि चढ़ी। कुछ खेलो के बाद कथाकथन आरंभ हुआ। आज का विषय विश्वगुरु प्राचीन भारत और वेदों मे विज्ञान था। वाघाये साहब ने महानता के गीत गाये, वैमॉनिक शास्त्र, परमाणु बम के असली स्रोत बताये, मैक्समूलर, मैकॉले निन्दा पुराण का वाचन किया। हम ज्ञान के ओवरडोज से अभिभूत थे।
दूसरे दिन हमारे प्रिय शिक्षक टाटी गुरूदेव विज्ञान की कक्षा ले रहे थे आक्सीजन के बारे में पढ़ा रहे थे, विदेशी वैज्ञानिक जोसेफ प्रिशले द्वारा आक्सीजन की खोज के बारे में बताया। नव प्राप्त ज्ञान के ओवरडोज से अभीभूत और भारतीय ज्ञान की चोरी से किसी विदेशी को श्रेय दिए जाने से हम भड़क गए। और पूरी कक्षा में नव प्राप्त ज्ञान का वमन कर दिया। गुरुदेव थोड़े हत्प्रभः होगये। कक्षा समाप्त होने पर बुलाया, बाहर लेकर गए और सारी जानकारी ली। हम थोड़े डरे हुए थे, गुरुदेव से नही, उनकी तीन फुट वाली हरे बांस से बनी विद्यादायनी से। लेकिन गुरुदेव ने कुछ नही कहा, मुस्कराते हुए चले गए।
हमारा शाम को ध्वज तले विश्वगुरु माहात्म्य, आतातायी निन्दापुराण का श्रवण जारी रहा। मित्र मंडली क्रिकेट ना खेलने और ज्ञान के ओवरडोज से अब कसमसाने लगी थी, लेकिन हमारे कारण विद्रोह नही कर रही थी।
अगले रविवार को सुबह 6 बजे टाटी गुरुदेव अपनी साइकिल से घर आये। पापा से मीले , सामान्य हाल चाल पूछा गया। मैं डर रहा था कि टाटी गुरुदेव शिकायत करेंगे और उसके बाद पापा सुताई करेंगे। लेकिन आशंका निर्मूल निकली। टाटी गुरुदेव ने पापा को कहा कि मैं आशीष को आज आमगांव ले जा रहा हूँ, दोपहर तक घर छोड़ दूंगा। पापा ने क्यो कैसे कुछ नही पूछा, बोले ठीक है ले जाइए।
टाटी गुरुदेव की साइकल के कैरियर पर बैठकर आमगांव पहुंचे। गुरुदेव एक पुस्तकालय ले गए। पुस्तकालय की वार्षिक फी 12 रूपये देकर मुझे सदस्य बनाया। ऋग्वेद की भारीभरकम पुस्तक मेरे नाम पर इश्यू करवाई। और कहा कि कल से आधा घण्टा पहले स्कूल आ जाना।
दूसरे दिन से गुरुदेव ने पाठ्यक्रम की रट्टू संस्कृत के बाहर संस्कृत पढ़ाना शुरू किया। हम ऋग्वेद हिंदी अनुवाद के सहारे पढ़ रहे थे। तीन चार महीने बीतते बीतते सीधे संस्कृत से समझने लगे थे, गुरुदेव सहायता के लिए थे ही। लेकिन गुरुदेव ने कभी भी अपने विचार नही थोपे, कहते थे पढो और जानो कि वेदो में क्या है। नही समझो तो मुझसे सहायता लो , मैं अनुवाद में सहायता करूँगा, व्याख्या नही। गुरुदेव ने पूरे दो साल संस्कृत सिखाई।
अब वापिस आते है हमारी शामो पर। सुबह सुबह टाटी गुरुदेव द्वारा मतिभ्रष्ट होने के रास्ते पर भेज दिए जाने का असर अब शाम को दिखने लगा था, हम अब प्रतिवाद करने लगे थे। मित्र मंडली पर क्रिकेट विश्वकप का बुखार था। वाघाये महोदय पर अन्य स्थानों पर ज्ञान प्रासार का दबाव था, मंदिर आंदोलन भी आरम्भ हो रहा था। आजकल कम आते थे। बस एक दिन विद्रोह हो ही गया, सारी मंडली ध्वज के नीचे ना आकर बाजू के खेत मे क्रिकेट खेलने लगी।
पटले गुरुजी ने हार नही मानी, वे हमारे शाम नहर/तालाब के विहार में हमारा साथ देने लगे। उनका बौद्धिक कथाकथन कार्यक्रम जारी रहा...
मैंने गुरुजी और गुरुदेव शब्द का प्रयोग किया है वह अनायास नही है। इस कथा के सारे पात्र वास्तविक है। पटले गुरुजी रिटायर हो चुके है। 

टाटी गुरुदेव अब हमारे मनमस्तिष्क में ही है।

आगे पढे़....

मेरे बारे मे

आशीष श्रीवास्तव
सूचना प्रौद्योगिकी मे 20 वर्षो से कार्यरत। विज्ञान पर शौकीया लेखन : विज्ञान आधारित ब्लाग विज्ञान विश्व तथा खगोल शास्त्र को समर्पित अंतरिक्ष । एक संशयवादी(Skeptic)व्यक्तित्व!
मेरा पूरा प्रोफ़ाइल देखें

इस चिठ्ठे के बारे मे

बस युं ही जो मन मे आये इस चिठ्ठे मे छपेगा!

  © Hindigram Khalipili by Hindigram 2011

Back to TOP