चल उड जा रे पंछी कि अब ये देश हुआ बेगाना

मंगलवार, अक्तूबर 11, 2005

चल उड जा रे पंछी कि अब ये देश हुआ बेगाना
खतम हुवे उस डाली के जिस पर तेरा बसेरा था
आज यहां और कल हो वहां ये जोगी वाला फेरा था
सदा रहा है इस दुनिया मे किसका आबो दाना
चल उड जा रे पंछी कि अब ये देश हुआ बेगाना

भारत वालो मै आ रहा हुँ, अमरीका वालो मै जा रहा हूँ। यहाँ क्लीवलैंड मे मेरा काम खत्म हो गया है, और हमने अपना बोरीया बिस्तर बांध लिया है। बस कुछ दिनो का और इंतजार 15 अक्तुबर को हम चल दिये वापिस।

वैसे मै अमरीका अक्सर आते जाते रहता हुं लेकिन ज्यादा समय के लिये नही, 6 सप्ताह से लेकर 8 सप्ताह तक। इस बार कुछ ज्यादा ही खिंच गया पूरे 8 महीने हो गये। जैसे ही हाथ का काम निपटाता , दुसरा काम हाजिर हो जाता। लग जाओ फिर से। इस बार भी फिर से नया काम आ गया था, लेकिन मै अड़ गया, बहुत हो गया अब हर हाल मे वापिस जाना है। रही काम की बात भारत जा कर अपनी जगह किसी को भेज दुंगा। वैसे भी मेरा विसा नवम्बर मे खत्म हो रहा था।

वैसे भी मालुम है कि कम्पनी भारत पहुचने के बाद चैन से नही रहने देगी, कहीं ना कहीं भेज देगी। वो तो भला हो अमरीकी दुतावास का अगले 3 महीनो तक विसा साक्षात्कार के लिये समय उपलब्द्ध नही है, अमरीका वापिस आने का कम से कम मार्च तक कोई मौका ही नही है। ऐसे भी सर्दियो मे कौन आना चाह्ता है यहां ? और यदि युरोप जाने का अवसर आया तो क्या कहने ! काफी कुछ है घुमने के लिये, वेनिस, रोम ,प्राग , पेरीस…

इस बार भारत मे ज्यादा टिक गया तो इतना निश्चित है कि भविष्य मे इतनी स्वतत्रंता से आवारागर्दी नही कर पाउंगा ! इस बार घरवाले छोडेगे नही। मेरा सुख चैन छीन जायेगा।

कैसी दुविधा है? एक तो घर जाने की जल्दी है और घर से भागने की योजना भी तैयार ।

चलो कोई बात नही पहले भारत तो पहूचों !
=======================================
टिप्पणीयाँ

1.अनूप शुक्ला उवाच :
अक्तुबर 11, 2005 at 12:52 pm
आओ स्वागत है तुम्हारा.लगन-साइत बडी जोरदार चल रही है.


मेरे बारे मे

Ashish Shrivastava
सूचना प्रौद्योगिकी मे 20 वर्षो से कार्यरत। विज्ञान पर शौकीया लेखन : विज्ञान आधारित ब्लाग विज्ञान विश्व तथा खगोल शास्त्र को समर्पित अंतरिक्ष । एक संशयवादी(Skeptic)व्यक्तित्व!
मेरा पूरा प्रोफ़ाइल देखें

इस चिठ्ठे के बारे मे

बस युं ही जो मन मे आये इस चिठ्ठे मे छपेगा!

  © Hindigram Khalipili by Hindigram 2011

Back to TOP